Sunday, November 16, 2008

महिलाओं के सपनों की सच्चाई बयान करती तस्वीर

-डॉ अशोक प्रियरंजन
मेरा शहर मेरठ - मेयर मधु गुजॆर । मेरा प्रदेश उत्तर प्रदेश - मुख्यमंत्री मायावती । मेरा देश भारत-सत्तारूढ यूपीए की चेयरमैन सोिनया गांधी । ये सब प्रतीक हैं उस सत्ता के जिसके शीषॆ पर िवराजमान हैं महिलाएं । एक शहर से लेकर देश की उच्च सत्ता पर महिलाओं का विराजमान होना सुखद संकेत हो सकता है । अपेक्षा की जानी चाहि िक इस िस्थित में महिलाओं की जिंदगी बेहद खुशहाल, उम्मीदें जगाने वाली और सतरंगी सपनों से लबरेज हो । पहले जमाने में उनके लि जो मुिश्कलें रहीं वह अब खत्म हो जानी चाहि । पुरूषों के स्थान पर शीषॆ पदों पर महिलाओं के प्रतिष्ठित होने से संपूणॆ महिला समाज के तरक्की की उम्मीद जगना स्वभावि है । एेसा लगता है िक इस स्तिथि में महिलाओं को भी पुरुषों के समान ही रोजगार, कामकाज, अधिकार और आथिॆक आत्मनिभॆरतािलनी चािहए लेकि हकीकत कुछ और है ।
भारत की महिलाओं की सि्थति की असलियत को सामने लाती है यूएनओ की लैंगि समानता संबंधी रिपोटॆ । इस रिपोटॆ के मुताबि लैंगि समानता के मामले में भारत विश्व में ११३वे स्थान पर है । तस्वीर और साफ हो जाएगी अगर सीधे लफ्जों में कहा जाए िक लैंगि समानता के मामले में ११२ देशों में में महिलाओं की सि्थति भारत से बेहतर है । यह एेसा सच है जो महिलाओं की तरक्की के तमाम दावों की पोल खोलता है । अपने आसपास रोजाना घट रही घटनाओं पर नजर डालें तो लगता है िक महिला पुरुष समानता का नारा अभी खोखला ही है ।
नेशनल क्राइम रेका‍र्ड ब्यूरो के आंकडों के मुतािबक वषॆ २००६ में देश में बलात्कार के १९३४८, दहेज के लि हत्या के ७६१८, महिलाओं लडकियों के अपहरण के १७४१४, छेडछाड के ३६६१७, यौन उत्पीडन के ९९६० और पति-परिजनों की कूरूर्ता के ६३१२८ मामले दजॆ िकए गए । महिला संबंधी अपराधों की इस सि्थति के बीच कैसे तरक्की के सपने देखे जा सकते हैं । अपराधों की यह डरावनी तस्वीर आधी आबादी को हर समय आशंकि और भयभीत कि रहती है । घर की दहलीज हो या िफर खुली सडक कहीं भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं । जब तक मिहलाओं को सुरक्षा का भरोसा नहीं होगा तब तक वह कैसे पुरुष के कंधे से कंधा मिलाकर काम कर सकती हैं । इसके लि जरूरी है िक महिलाओं के प्रति सामाजि द्रिषटिकोण में भी बदलाव हो । यह बदलाव न होने के कारण ही कन्या भूर्ण हत्या एक बडी बुराई के रूप में उभर रही है । एक कडवा सच यह भी है िक बुराई को आगे बढाने में पढा िलखा तबका सबसे ज्यादा है । लैंगि समानता का आधार तो जन्म से ही शुरू होना चाहि । जब कन्या को जन्म देने पर दुख के बजाय सुख की अनुभूति होने लगेगी तो यह लैंगि समानता की शुरूआत होगी ।
िना भेदभाव के कन्या शिक्षा के अवसर उपलब्ध कराए जाएंगे, उन्हें अपनी मजीॆ से कैरियर चुनने की आजादी मिलेगी तो इस दिशा में अगले कदम होंगे । जब विवाह में उन्हें लडके के समान निणॆय लेने की स्वतंत्रता मिलेगी तब यह समानता का विस्तार होगा । जब वह ससुराल, रोजगार, सत्ता और आथिॆक स्वाबलंबन में उनके साथ कोई भेदभाव नहीं होगा तब यह वास्तिवक लैंगि समानता होगी । एेसी सि्थति में वह निभीॆक होकर जीवन यापन कर पाएंगी, देश के विकास में भरपूर योगदान दे पाएंगी और उन सपनों में इंद्रधनुषी रंग भर पाएंगी जो उनकी आंखों में आकार लेते रहते हैं । इन सपनों को पूरा करने के िलए परिवार, समाज और सरकार का योगदान जरूरी है । सभी का सहयोग होगा तो सपने जरूर पूरे होंगे ।
(फोटो गूगल सर्च से साभार)

29 comments:

सचिन मिश्रा said...

Bahut badiya.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

किसी भी सुधार के लिए जनमानस में बदलाव आना ज़रूरी है.

अल्पना वर्मा said...

sahi likha hai--bahut badlaav aa gaya hai--aur aagey bhi positive umeed hai .

Anil Pusadkar said...

सही लिखा है।

seema gupta said...

जब वह ससुराल, रोजगार, सत्ता और आिथॆक स्वाबलंबन में उनके साथ कोई भेदभाव नहीं होगा तब यह वास्तिवक लैंिगक समानता होगी ।
" very well said, hatts off to you for your thought and these wonderful expression"

Regards

विवेक सिंह said...

कुछ भी हो आपका लेख अच्छा है छोटी इ की मात्रा को छोड कर :)

योगेन्द्र मौदगिल said...

बेहतरीन प्रस्तुति
आपको बधाई
छोटी इ के लिये आपको मेल दी थी
मेलबाक्स देखें

डॉ० कुमारेन्द्र सिंह सेंगर said...

धन्यवाद......अब मिलते रहेंगे,
बढ़िया है.....

प्रदीप मानोरिया said...

अच्छा बहुत बढिया महिलाओं के महत्व को उजागर करती तस्वीर आपने खूब उकेरी है

Zakir Ali 'Rajneesh' said...

सही कहा आपने। ये विचारों की क्रान्ति जल्द ही आएगी।

jamos jhalla said...

jhallevichaaraanusaar Haq mangne se nahin milte isi liye smaantaa ke liye doosron ki taraf taaknaa uchit nahin hogaa .world war ke paschaat paschim ki adhikansh war widows ne suhaagno ke suhaag par dakaa maarne ke sthaan par akelaa rehnaa pasand kiyaa aur samaaz main sammaan payaa .yeh ek udhaaran hai marg darshan nahin .Inhe saamne rakh kar uchi dishaa main karya kiyaa jaa saktaa hai .Aapne mahilaaon ke kalyaan,baraabari ka parcham uthayaa hai to ise lagaataar oonchaa karte rahiye

रज़िया "राज़" said...

ashokji, aap ka blog padha, abhi mai india ke bahr hone ki vajah se aapko javab samay par nahi de pai.aap ke blog par samajik,rajkiy tatha aarthik tinon samasyaon ke bare mai padhaneko milta hai.
bahot hi badhiya vichar hai aapke, sanman karti hun mai aapke vicharon ka.
isi tarha likhte rahiye hame bhi haqqikat ka samna aapke madhyam se ho jata hai,
sir keep it up.
thank-u

Dr.Bhawna said...

Bahut sahi likha ha aapne vicharon ko badlne ki jarurat ha ...par kaya ye asha ka suraj ugega kabhi..?

deepshikha70 said...

bahut achcha likha hai

अनुपम अग्रवाल said...

बहुत विचारणीय प्रश्न और ज्वलंत समस्या .
कहते तो सब हैं कि वही देश तरक्की करता है जहाँ पर नारी तरक्की करती हैं .
पहले से कुछ बेहतर हुआ भी है लेकिन अभी और बहुत की ज़रूरत है .
आपको बधाई इन प्रयासों के लिए

PREETI BARTHWAL said...

अशोक जी बहुत अच्छा लिखा है आपने।

Vidhu said...

ये लेख एक साथ बहुत से सवाल उठाता है ,ये सच है भारतीय महिलाओं की स्थतिअभी ज्यादा ठीक नही आंकडे कुछ भी कहें रोजमर्रा की जिन्दगी अभी भी कठिन है,दो साल पहले लेंगिक समानता पर एक शेक्षिक १५ दिवसीय सेमीनार जर्मनी और यु के का हम कुछ महिला पत्रकारों ने किया था वहां भी कोई बेहतर नही है ,हाँ भारत से अलग परिस्थितियाँ जरूर है ,,,आपकी कुछ पिछली पोस्ट भी देखी,समय कम ही होता है फिर भी ...शुक्रिया

वर्षा said...

स्थितियां बदल रही हैं और बदलेंगी। मेरे विचार में इसका सबसे बढिया रास्ता शिक्षा है।

श्यामल सुमन said...

बिल्कुल ठीक कहा है आपने। महिलाओं के जीवन का एक पक्ष और-

महिला मुक्ति आन्दोलन का समाज पे इतना प्रभाव है।
कि जन्म से पहले ही मुक्त का प्रस्ताव है।।

सादर
श्यामल सुमन
09955373288
मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
www.manoramsuman.blogspot.com

प्रदीप मानोरिया said...

आपकी नयी आलेख का इंतज़ार है

संगीता-जीवन सफ़र said...

आपने बहुत सही लिखा है!वास्तव में अभी हर स्तर पर काफ़ी बदलाव की जरुरत है!विचारों की क्रान्ति के साथ ही साथ जनमानस में जागरुकता होना बहुत जरुरी है!

शारदा अरोरा said...

आंकडें कुछ भी कहें
हमें मालूम है
दिल के टुकड़े हैं
बेटा है या बेटी है
खुशबू से गुलशन
सराबोर होता है

आपने तो आईना दिखाया है , हम दुआ कर रहें हैं |

sareetha said...

पुरुष प्रधान समाज में आप जैसे खुले विचारों के पुरुष , जो महिलाओं के हितों के प्रति संजीदा हैं , इसी बेबाकी से ऎसे मुद्दे उठाते रहें ।

shama said...

Aaj mai keval aapko apne blogpe nimantrit karne aayee hun...mumbaike bam dhamakonse behad vyathit ho lekh likha hai," Meree Aawaz Suno"...chahtee hun, adhikse adhik log ise padhen..." Pyarki Raah Dikha Duniyako" ki tarah ye archives daba na rahe...intezaar hai...

nirmal gupt said...

my internet connection was out of order.bahut dinon baad aapka blog padha.nice blog.keep it up.nirmal

sandhyagupta said...

Aankde rongte khare karte hain.

Rama said...

डा.रमा द्विवेदी said...

बहुत सुन्दर विचार एवं बढ़ियां प्रस्तुति...बधाई..
अपनी लिखी हुई कविता की कुछ पंक्तियां प्रेषित कर रही हूं....

जब अपने दम-खम से,
कोइ नारी बन जाती है महान,
तब करता है गौरव उस पर,
यह सारा का सारा जहान।

हमें समाज की इस धारणा को,
प्रयास करके बदलना होगा,
बेटियों के आगे बढ़ने में,
हमें उनका संबल बनना होगा।

ताकि उनकी राह भी,
कुछ आसान हो जाए,
संघर्षों की राह में वो,
खुद को अकेला न पाए।

deepshikha70 said...

sir, bahut achcha likha hai.

Season said...

par kahin na kahin mahilaon ki iss dayniy awastha ke liye kafi hadd tak mahilayein hi zimmedar hain.. sabse zayada maine unhe hi ek ladki ke janam par matam manate huye dekha hai.. mahila surksha ki baat karein to mujhe ek cheez samjh mein nahi aati ki mumbai mein jo bhi kanoon vayvastha hai uske chalte mahilayein yahan UP,Punjab, Delhi etc. cities se zayada surakshit hain.. iska karan yahan ki kanoon vayavstha hai yaa logon ka dimagi khulapun ye keh pana mushkil hai.. par jo bhi ankde apne yahan dikhaye wo sach mein mann mein darr paida karte hain..